Monday, 8 February 2016

कोलंबिया : 3000 से ज्यादा गर्भवती महिलाएं जीका से संक्रमित, माइक्रोसेफली का मामला नहीं

कोलंबिया : 3000 से ज्यादा गर्भवती महिलाएं जीका से संक्रमित, माइक्रोसेफली का मामला नहीं
जीका मामले में जन्मजात बच्चों के ‘माइक्रोसेफली’ से पीड़ित होने की पुष्टि नहीं हुई है
बोगोटा:कोलंबिया में 3,177 गर्भवती महिलाओं में जीका विषाणु का पता चला है लेकिन देश के राष्ट्रपति जुआन मैनुएल सैंटोस ने कहा है कि उनके देश में जीका के ऐसे किसी भी मामले में जन्मजात बच्चों के ‘माइक्रोसेफली’ से पीड़ित होने की पुष्टि नहीं हुई है। नर्वस सिस्टम से जुड़ी बीमारी ‘माइक्रोसेफली’ से पीड़ित बच्चे का सिर जन्म के दौरान असामान्य रूप से छोटा होता है। सैंटोस ने बताया कि अमेरिका का चिकित्सा-वैज्ञानिक दल कोलंबिया में मच्छर जनित विषाणु की जांच में मदद के लिए आएगा।

ब्राजील के अधिकारियों ने माइक्रोसेफली मामलों की असामान्य संख्या के पीछे जीका की आशंका जताई है, बहरहाल अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है लेकिन विषाणु को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन को आपातकाल की घोषणा करनी पड़ी। सैंटोस का कहना है कि जीका ने स्पष्ट तौर पर कुल 25,600 से अधिक कोलंबियाई नागरिकों को प्रभावित किया है।

'गुलियन बैरे' से मौत
कोलंबियाई अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को तीन लोगों की ‘गुलियन बैरे’ नामक बीमारी के कारण मौत हो गई और इसके लिए जीका विषाणु को जिम्मेदार बताया जा रहा है। नर्वस सिस्टम से जुड़ी ‘गुलियन बैरे’ नामक बीमारी के कारण व्यक्ति का शरीर लकवाग्रस्त हो जाता है।

जीका विषाणु के बढ़ते मामलों पर वैश्विक चिंता जताते हुए स्वास्थ्य अधिकारियों ने गर्भवती महिलाओं को चुंबन करने के दौरान सावधानी बरतने और पुरूषों को अपने गर्भवती साथी के साथ कंडोम के इस्तेमाल की सलाह दी है। ब्राजील में एक शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि वैज्ञानिकों ने लार और मूत्र के नमूनों में इस विषाणु को सक्रिय पाया है जिसके कारण देश में ऐसे प्रतिबंधों को अचानक तेज कर दिया गया।