Wednesday, 20 April 2016

हैदराबाद : 30 साल के इतिहास में शहर में पहली बार पानी का भयानक संकट

हैदराबाद : 30 साल के इतिहास में शहर में पहली बार पानी का भयानक संकट
तेलंगाना लगातार तीसरे साल भीषण सूखे की चपेट में है।
तेलंगाना: तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में 30 साल के इतिहास में पहली बार पानी का संकट भयानक रूप ले चुका है। दरअसल राजधानी को पानी सप्लाई करने वाले चारों प्रमुख स्रोत लगभग पूरी तरह सूख चुके हैं। यह जानकारी तेलंगाना के नगरीय प्रशासन मंत्री केटी रामा राव ने दी है।

राज्य में लगातार तीसरे सूखे और लू के तेज थपेड़ों के बीच हैदराबाद में पानी की समस्या इतनी गंभीर हो गई है कि शहर के कई क्षेत्रों में पानी की सप्लाई एक दिन छोड़कर की जा रही है, वहीं तेलंगाना के गांवों में यह संकट और भी भीषण है, जहां पीने का पानी लाने के लिए लोगों को काफी दूर जाना पड़ रहा है।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के बेटे और हैदराबाद के प्रभारी मंत्री राव ने NDTV को बताया कि पानी के चार स्रोत सिंगुर, मंजीरा, उस्मान सागर और हिमायत सागर सूख गए हैं, वहीं शहर में पानी की मांग और आपूर्ति के बीच 47 प्रतिशत का अंतर आ गया है, जबकि पिछले सप्ताह अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था।

राव के अनुसार हैदराबाद को प्रतिदिन 660 मिलियन गैलन पानी की जरूरत है, जबकि प्रशासन केवल 335 गैलन की सप्लाई ही कर पा रहा है। इसके लिए भी पानी गोदावरी और कृष्णा नदियों से लिया जा रहा है, जो शहर से लगभग 200 किमी की दूरी पर हैं।