Saturday, 23 January 2016

एस्ट्रोजन हार्मोन करता है इबोला और हेपेटाइटिस के प्रभाव को कम


एस्ट्रोजन हार्मोन करता है इबोला और हेपेटाइटिस के प्रभाव को कम
न्यूयार्क: एस्ट्रोजन हार्मोन महिलाओं में पाया जाने वाला सेक्स हार्मोन होता है। यह हार्मोन महिलाओं के रिप्रोडक्टिव सिस्टम (प्रजनन प्रणाली) के विकास में सहायक होता है। महिलाओं की बॉडी में हार्मोन का बहुत बड़ा रोल होता है, जो दिल से लेकर दिमाग तक को कंट्रोल करता है। यही एस्ट्रोजन हार्मोन सिर्फ महिलाओं के लिए काफी लाभदायक है। एक नए शोध के दौरान यह पुष्टि हुई है कि यह महिलाओं में  फ्लू वायरस को घटाता है, लेकिन पुरुषों में नहीं।
अमेरिका के जॉन्स हॉपकिन्स ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अनुसार, यह सुरक्षात्मक हार्मोन महिलाओं के लिए बेहद अच्छा है, यह प्राकृतिक तौर पर उनके अंदर होता है। हाल ही में हुआ यह शोध बताता है कि एस्ट्रोजन एचआईवी, इबोला और हेपेटाइटिस जैसे वायरस की प्रकृति को प्रभावित करते हैं जिससे संक्रमण की गंभीरता कम होती है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, पुरुषों की कोशिकाओं में एस्ट्रोजन हार्मोन के लिए रिसेप्टर्स काफी कम होते हैं इसलिए यह हार्मोन पुरुषों में वायरस के प्रति लड़ने के लिए उतना प्रभावी नहीं होता है।

यह शोध ऑनलाइन पत्रिका 'अमेरिकन जर्नल ऑफ साइकोलॉजी'में प्रकाशित हुआ है।